facebook Share on Facebook चीन की हिमाकतें ओर हरकतें हमेशा ही परेशान करने वाली रही हैं। समूचा विश्व अभी भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का दंश झेल रहा है और इस वायरस की उत्पत्ति के आरोप सीधे तौर पर चीन पर लगते रहे हैं, जबकि चीन सिरे से इन सभी आरोपों को नकारता आ रहा है। पहले भले ही दुनिया दबी जुबान में कोरोना फैलाने के आरोप चीन पर लगाती रही हो, मगर अब तो हर आदमी खुलकर यही कहने लगा है कि चीन ने ही कोरोना वायरस को फैलाने का काम किया है। इस बात ने तब और ज्यादा जोर पकड़ा, जब अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने इससे संबंधित रिपोर्ट को 90 दिनों में मांगने की बात कह दी। सच चाहे जो भी हो, शक की सूई अभी भी चीन की ही तरफ घूमती हुई नजर आ रही है। भारत के साथ चीन के रिश्ते क्या हैं, यह सभी जानते हैं। सीमा विवाद को लेकर उसके इरादे हमेशा से तनावपूर्ण रहे हैं। चीन की कथनी और करनी में गहरा अंतर रहा है। उसने दोनों देशों में तनाव बढऩे के चलते नरम पड़ते हुए मसलों को शांति से सुलझाने की बातें की हैं और अगले ही पल विवादित बयान देकर मामलों को और भड़काने का भी काम किया है। चीन के साथ ही भारत के एक और पड़ोसी पाकिस्तान की हरकतें भी दिक्कतें पैदा करने वाली रही हैं। पाक ने भी कश्मीर को लेकर हमेशा भारत के सब्र का इम्तिहान लेने की कोशिश की है, लेकिन हिंदुस्तान ने हर बार ही पाकिस्तान के हुक्मरानों को शांति का परिचय देते हुए उसे अभी भी संभल जाओ की नसीहतें ही दी है, मगर लगता है कि पाक ने इसे हल्के में ही लिया है और अपनी हरकतों को बंद नहीं किया है। पाक ने आतंकवाद की आड़ में भारत को डराने की नाकाम कोशिशें की, लेकिन वह यह भूल गया है कि भारत वीरों की भूमि है और उसके जैसे गीदडऩुमा देशों से डरने वाला नहीं है। पाकिस्तान के इसी कश्मीर आलाप ने भारत के खूबसूरत राज्य जम्मू कश्मीर के लोगों को भ्रमित कर रखा है। कश्मीरी युवा आज समाज की मुख्य धारा से पूरी तरह से भटके हुए हैं। इसका कारण है कि पाकिस्तान की ओर से उनके मन में गलत धारणाएं पैदा की गई हैं। उन्हें कश्मीर के नाम पर बांटा गया है और अधिक धन का लालच देकर अपनों पर ही बंदूक उठाने के लिए बाध्य किया गया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने जब सत्ता संभाली थी, तो लगा था कि शायद अब भारत और पाक के बिगड़ चुके रिश्तों को एक नई दिशा मिल सकेगी, मगर उन्होंने जल्द ही कश्मीर के राग को अलापना शुरु कर दिया और भारत के प्रति आग उगलने लग गए। इमरान ने पाक के कथित बड़े सियासतदानों को खुश करने के लिए भारत को हमेशा अपने निशाने पर लिया है। इसके बावजूद यह भारत की ही भलमनसाहत कही जा सकती है कि उसने पाक को अभी तक छोड़ा हुआ है। भारत ने हमेशा यही चाहा कि पाकिस्तान सुधर जाए और दोनों देशों के रिश्तों में मिठास आ सके, लेकिन पाक को शायद यह गवारा नहीं है। चीन और पाकिस्तान ऐसे जहरीले सांप हैं, जो वक्त मिलने पर अपना डंक मारना नहीं भूलते हैं। भारत को इनसे किसी अच्छाई की उम्मीद नहीं करनी चाहिए। चीन को कोरोना जैसी वैश्विक महामारी पर लगे आरोपों पर भी अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए। इसमें भी कोई संदेह नहीं है कि चीन अब पूरे विश्व के निशाने पर आ गया है। संभवत: उसने अपनी अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए ही कोरोना वायरस को दुनिया में फैलाया हो, ऐसे आरोप भी उस पर लग रहे हैं। चीन की इन्हीें हरकतों के लिए उसे अब माकूल जवाब देने का समय आ गया है।

more news....