facebook Share on Facebook
धर्मशाला में फिर से दिखा कर्मचारियों का रोष

घोषणाओं के बाद भी घटित नहीं हुई कमेटी, ना ही मिली दिवंगत कर्मचारियों के परिवार को पेंशन

धर्मशाला में फिर से दिखा कर्मचारियों का रोष

DHARAMSHALA | SUNNY MAHAJAN

पुरानी पेंशन की बहाली के लिए जिला कांगड़ा के नई पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ के सदस्यों ने परिधि गृह में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का घेराव कर दिया. नई पेंशन स्कीम कर्मचारी पूरे जोश के साथ भारी बारिश तथा सर्दी में पुरानी पेंशन स्कीम की बहाली हेतु मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को मांग पत्र सौंपने परिधि गृह के बाहर एकत्रित हुए. उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से पुरानी पेंशन की बहाली को लेकर एक बार फिर मांग की. इसी कड़ी में नई पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से भी भेंट की और बताया कि नई पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ द्वारा गत 6-7 वर्षों से पुरानी पेंशन बहाली हेतु प्रयास किया जा रहा है। महासंघ द्वारा जन प्रतिनिधियों व अधिकारियों के माध्यम से सरकार के समक्ष अनेकों बार सेवानिवृत हुए कर्मचारियों की इस पीड़ा को रखा जा चुका है। प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री को स्पष्ट शब्दों में कहा कि आज जिला कांगड़ा के कर्मचारी महज दो ही बातों की जानकारी के लिए मुख्यमंत्री के पास आएं हैं. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री  ने 27 नवंबर को आईसीसी बैठक में 2009 की केंद्र सरकार की अधिसूचना अनुसार हिमाचल के एनपीएस कर्मचारियों को लाभ देने की घोषणा की थी। जिसके तहत सेवा के दौरान दिवंगत एनपीएस कर्मचारियों के परिवारों को पुरानी पेंशन मिलनी थी परंतु इतना ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी इस घोषणा की अधिसूचना वित्त विभाग अभी तक जारी नहीं कर पाया है। 11 दिसंबर 2021 को नई पेंशन स्कीम कर्मचारी महासंघ की धर्मशाला रैली के दौरान मुख्यमंत्री  द्वारा लाभार्थी सदस्यों को शामिल करने के प्रावधान सहित एक कमेटी गठन की अधिसूचना जारी कर मामले के हल के लिए आश्वासन दिया था परंतु इस कमेटी के सदस्यों का मनोनयन अभी तक नहीं किया गया है जबकि महासंघ का प्रतिनिधि मंडल 31 दिसंबर को पुनः पुरानी पेंशन बहाली हेतु कमेटी के पूर्ण गठन की मांग को लेकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मिला था लेकिन डेढ़ महीने से भी ज्यादा समय बीतने के बाद भी अभी तक कमेटी का पूर्ण गठन नहीं हो पाया जिससे कर्मचारियों में काफी निराशा है. उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से मांग की जिला कांगड़ा के समस्त कर्मचारी यही आग्रह लेकर आएं है कि मुख्यमंत्री तुरंत ही उपरोक्त दोनों मांगों पर कार्यवाही करने के आदेश जारी करने की मेहरबानी करें ताकि हिमाचल प्रदेश में जल्द पुरानी पेंशन बहाली हेतु सार्थक पहल हो अन्यथा एनपीएस कर्मचारियों को मजबूरन आने वाले बजट सत्र के दौरान तपोवन / दाड़ी रैली की तर्ज पर शिमला में रोष रैली करने को मजबूर होना पड़ेगा, क्योंकि प्रदेश के 120000 कर्मचारियों को सरकार से बहुत ज्यादा उम्मीद थी कि हिमाचल सरकार जल्द ही प्रदेश में पुरानी पेंशन बहाली कमेटी गठित कर के प्रदेश में पुरानी पेंशन बहाल करेगी। जिला कांगड़ा के अध्यक्ष राजेंद्र मिन्हास ने कहा कि नई पेंशन स्कीम में बहुत सी खामियां हैं जिनके बारे में समय-समय पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को अवगत करवाया गया है।उन्होंने कहा कि आज सेवानिवृत्त होने वाला कर्मचारी 500, 1000, 1500 पेंशन प्राप्त कर रहा है। इतनी कम पेंशन में घर का खर्च चलाना बहुत मुश्किल है। उन्होंने कहा सभी चुने हुए नेता पेंशन छोड़ दें या तो कर्मचारियों की पुरानी पेंशन बहाल कर दें. उन्होंने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से निवेदन किया कि बजट सत्र से पहले एनपीएस के तहत आने वाले 120000 कर्मचारियों के लिए हिमाचल प्रदेश सरकार सार्थक कदम उठाए एवम हिमाचल प्रदेश में पुरानी पेंशन जल्द बहाल की जाए। जिस पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कमेटी के गठन को लेकर महासंघ को आश्वासन दिया तथा कहा कि जल्द ही नई पेंशन स्कीम के अंतर्गत आने वाले कर्माचारियों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए कदम उठाए जाएंगे. 




KEYWORDS: OLD PENSION SCHEME NEW JAI RAM THAKUR NPS OPS DHARAMSHALA HIMACHAL NPSEA



more news....